अस्पतालों में नहीं किया जा रहा मरीजों को भर्ती, जबरन दे रहे छुट्टी

0
135

राजस्थान में शनिवार को छठे दिन भी सेवारत डॉक्टरों की हड़ताल जारी है। इससे मरीजों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। अस्पतालों में लंबी-लंबी कतारें लगी हुई हैं। प्रदेश के डूंगरपुर जिले में जहां मरीजों की जान पर बन आई है, वहीं मौत के बाद मुर्दों पर भी चिकित्सकों की हड़ताल भारी पड़ रही है। जिले में डॉक्टरों की हड़ताल की वजह से विभिन्न घटनाओं में मौत होने पर मुर्दों का पोस्टमार्टम नहीं हो पा रहा है।

जिले सागवाड़ा व सदर थाना पुलिस को शनिवार को ऐसी ही परेशानी का सामना करना पड़ा। सागवाड़ा थाना क्षेत्र के पादरा गांव में एक व्यक्ति द्वारा आत्महत्या के करने के मामले में सागवाड़ा पुलिस शव को लेकर जिले में घुमती रही, लेकिन डॉक्टर नहीं मिल पाने से शव का पोस्टमार्टम नहीं हो सका।

इधर, मृतक के परिजनों की स्थिति ठीक नहीं होने से परिजनों ने उदयपुर लेजाकर पोस्टमार्टम करवाने से मना कर दिया और पुलिस को लिखित में रिपोर्ट देकर बिना पोस्टमार्टम के शव लेकर चले गए।

वहीं ऐसा ही कुछ सदर थाना पुलिस के साथ हुआ, जिसमें रेलड़ा गांव में एक व्यक्ति की डूबने से मौत हो गई जिसे लेकर जब पुलिस जिला अस्पताल पहुंची तो वहां भी डॉक्टर नहीं होने से पोस्टमार्टम नहीं हो पाया। इस पर पुलिस ने डूंगरपुर से 100 किलोमीटर दूर उदयपुर लेजाकर शव को पोस्टमार्टम करवाकर शव परिजनों के सुपुर्द किया।

वहीं बीकानेर संभाग के सबसे बड़े पीबीएम अस्पताल समेत समूचे जिले में चिकित्सा व्यवस्था गड़बड़ा गई है। अस्पताल में मरीजों को भर्ती नहीं किया जा रहा है तो वहीं अस्पताल के वार्डों में भर्ती मरीजों को भी जबरन छुट्टी दी जा रही है।

अस्पताल की आपातकालीन इकाई में तो मेडिकल स्टूडेंट्स को बैठाकर वैकल्पिक व्यवस्थाओं की इतिश्री कर ली गई है, जबकि रेलवे व आर्मी के डॉक्टरों को अभी तक सिर्फ प्रशासन के साथ बैठक का ही निमन्त्रण भेजा गया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here