जोधपुर ‘लव जेहाद’ मामले में नया मोड़, युवती को हाईकोर्ट ने भेजा ससुराल

0
86

राजस्थान  जोधपुर के बहुचर्चित ‘लव जेहाद’ मामले में आज एक नया मोड़ उस वक्त आ गया जब राजस्थान हाईकोर्ट ने लड़की को उसकी सहमति जताने के बाद ससुराल भेज दिया। युवती के परिवार का आरोप था कि आरोपियों ने जबरन युवती का धर्म परिवर्तन कराया है।

पायल सिंघवी उर्फ आरिफा को राजस्थान हाईकोर्ट ने उसके पति के घर भेज दिया है। कोर्ट ने पायल से पूछा था कि क्या वह अपनी इच्छा से ऐसा करना चाहती है? क्या उस पर किसी का दवाब तो नहीं है? युवती द्वारा सहमति जताई गई जिसके बाद कोर्ट ने उसे ससुराल भेज दिया। हालांकि लड़की का परिवार अभी भी यही कह रहा है कि युवती पर दवाब है जिसके चलते उसने ऐसा बयान दिया है।

इससे पहले इस केस में सख्त टिप्पणी की थी। कोर्ट ने कहा था कि सिर्फ निकाह करने से धर्म परिवर्तन नहीं हो सकता। दरअसल पायल नाम की एक लड़की के भाई चिराग सिंघवी का आरोप है कि 10 रुपये के स्टांप पेपर पर दस्तखत करवाकर उसकी बहन का धर्म परिवर्तन कराया गया है। इस बारे में कोर्ट ने राजस्थान सरकार से जवाब मांगा है कि वह बताए कि धर्म परिवर्तन का नियम-कानून क्या है?

जोधपुर में एक हिंदू लड़की घर से भागकर मुसलमान बन गई। इसके बाद परिवार हाईकोर्ट पहुंचा तो खुलासा हुआ कि दस रुपये के स्टांप पेपर पर हस्ताक्षर कराकर पायल सिंघवी नाम की हिंदू लड़की आरिफा बन गई। परिवार का आरोप है कि बहला फुसलाकर पायल का धर्म परिवर्तन कराया गया है।

पायल के घरवालों के मुताबिक, वो 25 अक्टूबर तक घर में ही रह ही थी, अचानक वो गायब हो गई। परिवार जब पुलिस के पास पहुंचा तो पता चला कि पायल मुसलमान बन चुकी है और 14 अप्रैल 2017 को उसका निकाह फैज मोदी के साथ हो चुका है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here