हदिया के पिता ने कहा, ‘नहीं चाहता परिवार में हो कोई आतंकी‘

0
163

कथित लव जिहाद मामले का केंद्र बनी केरल की महिला हदिया के पिता ने उनकी बेटी को पढ़ाई जारी रखने की इजाजत देने के उच्चतम न्यायालय के निर्देश का आज स्वागत किया और कहा कि वह अपने परिवार में किसी आतंकवादी को नहीं चाहते। के एम अशोकन ने कहा कि उनकी बेटी हदिया इस्लाम में परिवर्तित होने के बाद सीरिया जाना चाहती है लेकिन उसे वहां के बारे में कोई जानकारी नहीं है।

अशोकन ने कहा, ‘हदिया को सीरिया के बारे में कोई जानकारी नहीं है, जहां वह इस्लाम में परिवर्तित होकर जाना चाहती थी।’ उन्होंने कहा, ‘ मैं नहीं चाहता कि मेरे परिवार में कोई आतंकी हो।’ अशोकन से जब अंतर जातीय विवाह के बारे में उनकी राय पूछी गयी तो उन्होंने कहा कि वह एक धर्म और एक ईश्वर में विश्वास रखते हैं।

उच्चतम न्यायालय ने कल हदिया को उसके अभिभावकों के संरक्षण से मुक्त करते हुए उसे कॉलेज में पढ़ाई जारी रखने का निर्देश दिया था। हालांकि हदिया ने अनुरोध किया था कि उसे उसके पति शफीन जहां के साथ जाने दिया जाए।

अशोकन ने कहा, ‘यह बहुत दुखद है कि उसे इस खराब अनुभव से गुजरना पड़ा जिसके कारण उसकी पढ़ाई बाधित हुई, लेकिन अब मैं खुश हूं क्योंकि अदालत ने उसे आगे पढ़ाई करने की अनुमति दे दी है।’ उन्होंने इन आरोपों को खारिज किया कि हदिया को नजरबंद रखा गया था।

‘मैं उच्चतम न्यायालय के फैसले का स्वागत करता हूं। वह उच्चतम न्यायालय के संरक्षण में है और वह मामले पर नजर रख रहा है। मैं उसकी सुरक्षा को लेकर चिंतित नहीं हूं।’ उन्होंने यह भी कहा कि वह आवश्यकता पड़ने पर उससे मिलने सलेम जाएंगे क्योंकि अदालत ने उन्हें इसकी अनुमति दी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here